Zero order reaction ( शून्य कोटि अभिक्रिया) in hindi


शून्य कोटि अभिक्रिया (ZERO ORDER REACTION) :-




वे रासायनिक अभिक्रियाऐं जिनमें समय के साथ-साथ
 अभिकारक पदार्थ की सान्द्रता में कोई परिवर्तन नहीँ होता है । वे अभिक्रयाएँ शून्य कोटि अभिक्रियाऐं कहलाती हैं।

या
वे रासायनिक अभिक्रियाएँ जिनमें अभिक्रिया की दर 
अभिकारक पदार्थोँ के सक्रिय द्रव्यमानों की शून्य घात के  समानुपाती होती है , शून्य कोटि अभिक्रिया कहलाती हैँ ।



माना किसी पदार्थ की सान्द्रता a mole है , तथा t sec पश्चात् पदार्थ के  x mole वियोजित हो जाता है । तब -
अभिक्रिया की दर ∝ [A]

       dx/dt  ∝   [A] 

शून्य कोटि अभिक्रिया के लिए   

dx/dt  =    k [A]

जहाँ , k = शून्य कोटि अभिक्रिया के लिए वेग स्थिरांक 

         dx/dt = k (a - x) 0

        dx/dt    =   k

       dx = k  dt

दोनो पक्षोँ  का समाकलन करने पर ,
           ∫ dx=  ∫ k dt

              x = kt +I

जहाँ I =समाकलन नियतांक 
प्रारम्भ मेँ 
जब t = 0 sec 

तब  x = 0

उपरोक्त 0 = k  × 0 + I   ⇒   I = 0

I का मान समीकरण (1) मेँ रखने पर

x  = kt

k  =  x/t

शून्य कोटि अभिक्रियाओँ के अभिलक्षण :-

  

1. शून्य कोटि अभिक्रिया के लिए अभिक्रिया के वेग
स्थिराँक का मात्रक सान्द्रण समय KI-¹ अर्थात् मोल लीटर KI-¹   सेकण्ड KI-¹  होता है ।

2. इस अभिक्रिया के लिए सान्द्रता तथा अभिक्रिया की 
दर के बीच ग्राफ खींचने तर एक सरल रेखा प्राप्त होती है , अर्थात अभिक्रिया की दर पदार्थ की सान्द्रता पर निर्भर नहीँ करता है |


dx/dt   का t के विपरीत आलेख समय अक्ष समान्तर सरल रेखा होती है ।
3. अभिक्रिया के किसी भी आंशिक परिवर्तन के पूर्ण होने मेँ लगा समय प्रारम्भिक सान्द्रता 'a' के अनुक्रमानुपाती होता है ।
5. शून्य कोटि अभिक्रियाओं के पूर्ण होने में एक निश्चित समय लगता है ।

* अर्द्धआयु काल :-

  

वह समय जिसमेँ कोई अभिकारी पदार्थ अपनी प्रारम्भिक मात्रा का आधा शेष रह जाता है ,वह उस पदार्थ का अर्द्धआयु काल कहलाता है ।

जब T = t½

तब x = a/2

उपरोक्त मान समीकरण (2) मेँ रखने पर ,

   k  =  a /2 /t½
          
t½  =  a / 2k  (   ∵ 2 तथा k = नियतांक )

t½  ∝ a


   इस रासायनिक बलगतिकी अध्याय के अन्य टॉपिक नीचे पढ़ें :-


Zero order reaction ( शून्य कोटि अभिक्रिया) in hindi Zero order reaction ( शून्य कोटि अभिक्रिया) in hindi Reviewed by suresh kumar gautam on January 31, 2017 Rating: 5

No comments

Featured